बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना 2022: Registration, Application Form

बिहार सरकार राज्य की बेहतरी के लिए कई कदम उठा रही है ताकि राज्य के नागरिक लाभान्वित हो सकें। शादी को लेकर लोगों में अभी तक समाज में कोई बदलाव नहीं आया है। अभी भी अपनी ही जाति में शादी करना पसंद करते हैं और दूसरे वर्ग के लोगों को अपने से छोटा महसूस करते हैं। सरकार राज्य के लोगों के ऐसे विचारों को मिटाने के लिए विभिन्न प्रयास कर रही है ताकि लोग अंतर्जातीय विवाह कर सकें और समाज के सोचने के तरीके को बदल सकें। इसलिए सरकार ने बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना 2022 शुरू की है। इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार अंतर्जातीय विवाह के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इस योजना के लिए लाभार्थियों को आवेदन करना होगा।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana

समाज में विवाह को लेकर इन सभी भ्रांतियों को दूर करने के लिए राज्य सरकार ने यह योजना शुरू की है। इस योजना के तहत लाभार्थियों को लगभग 2.5 लाख रुपये दिए जाएंगे। आज हम आपको इस पेज के माध्यम से Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana के बारे में लगभग सभी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि योजना का उद्देश्य, लाभ, आवश्यक दस्तावेज, पात्रता मानदंड और अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना आवेदन प्रक्रिया। इस योजना के बारे में अधिक जानने और इस योजना के बारे में अधिक जानने के लिए इस पृष्ठ को पढ़ें।

संक्षिप्त योजना विवरण

योजना का नामबिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना
उद्देश्यइस योजना का उद्देश्य बिहार में अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देना है।
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन/ऑफलाइन

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana About

राज्य सरकार ने Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Scheme राज्य के निवासियों की शादी को लेकर सभी भ्रांतियों को दूर करने के लिए शुरू की है। बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई अंतर्जातीय विवाह योजना को डॉ. अम्बेडकर योजना के नाम से भी जाना जाता है। राज्य सरकार इस योजना के तहत अंतर्जातीय जोड़ों को लगभग 2.5 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। बिहार सरकार ने राज्य में अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए अंतरजातीय विवाह योजना शुरू की है। राज्य में अभी भी बहुत से लोग ऐसे हैं जो विवाह को लेकर भ्रांतियां रखते हैं और सोचते हैं कि अपनों के अलावा कोई भी जाति छोटी होती है।

दंपति को इन दोनों के माध्यम से भुगतान की जाने वाली राशि के आधार पर वित्तीय सहायता प्राप्त होगी। बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का संचालन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री और डॉ. अम्बेडकर फाउंडेशन के अध्यक्ष द्वारा किया जा रहा है। यदि लाभार्थी इस योजना का लाभ लेने के लिए कोई गलत जानकारी देता है तो लाभार्थी से प्राधिकरण के माध्यम से लाभ की राशि की वसूली की जाएगी। अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने शुरुआत में दो साल के लिए योजना शुरू की थी लेकिन अब राज्य सरकार ने हर साल इस योजना को चलाने का फैसला किया है।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana Registration Highlights Key
योजना का नामबिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना
किसने लॉन्च कियामुख्यमंत्री मान्य नितीश कुमार जी के द्वारा
स्कीम के तहतराज्य सरकार
राज्यबिहार
पोस्ट श्रेणीयोजना
आर्थिक सहायता की राशि₹2.5 लाख
लाभार्थीबिहार में अंतर्जातीय जोड़े इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।
उद्देश्यइस योजना का उद्देश्य बिहार में अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देना है।
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन/ऑफलाइन
साल2022
आधिकारिक वेबसाइटClick Here

अन्तर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना हेतु आर्थिक सहायता राशि

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना से बिहार में अंतर्जातीय जोड़ों को लाभ होगा। लाभार्थी को योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन करना होगा। लाभार्थी को रुपये के गैर-न्यायिक स्टांप पेपर के माध्यम से पूर्व-मुद्रांकित रसीद जमा करनी होगी। आवेदन जमा करने के बाद, आवेदन पत्र का सत्यापन किया जाएगा और 1.5 लाख रुपये सीधे आरटीजीएस या एनईएफटी के माध्यम से पात्र लाभार्थी के बैंक खाते में भेजे जाएंगे। इस योजना के माध्यम से कार की बाकी राशि तीन साल के लिए सावधि जमा के रूप में तय की जाएगी। तथा 3 वर्ष की समाप्ति पर अन्तर्जातीय विवाहित दम्पति को सावधि जमा की राशि एवं शेष ब्याज की राशि का भुगतान किया जायेगा।

राज्य सरकार इस योजना के माध्यम से अंतर्जातीय विवाह को प्रोत्साहित करेगी और उन्हें आर्थिक मदद करेगी। इस शादी की व्यवस्था को मीडिया के माध्यम से प्रचारित किया जाएगा और सामूहिक विवाह की व्यवस्था विभाग को 25 हजार रुपये प्रति शादी की दर से दी जाएगी। बिहार योजना पर सटीक और नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क करें।

बिहार अंतर्जातीय विवाह योजना का उद्देश्य

राज्य सरकार ने जिस उद्देश्य से अंतर्जातीय विवाह योजना शुरू की है उसके बारे में हम आपको कुछ जानकारी देंगे –

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के लोगों की नकारात्मक सोच को बदलना है। योजना का एक अन्य उद्देश्य राज्य में अंतर्जातीय विवाह को प्रोत्साहित करना है। लोग शादी के बारे में ज्यादा नहीं बदले हैं फिर भी वे अपनी ही जाति में शादी करना पसंद करते हैं और दूसरी जाति के लोगों को नीचा समझते हैं। बिहार सरकार ने ऐसी नकारात्मक सोच को मिटाने और अंतर्जातीय विवाह को प्रोत्साहित करने के लिए अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना शुरू की है। राज्य सरकार इस योजना के तहत अंतर्जातीय जोड़ों को 2.5 लाख रुपये प्रदान करेगी। और सरकार इस योजना का लाभ लाभार्थियों को तभी प्रदान करेगी जब पति या पत्नी में से कोई एक पिछड़े राष्ट्र से हो।

इस योजना से अंतर्जातीय दंपत्ति को आर्थिक मदद मिलेगी और वे आत्मनिर्भर भी होंगे। इस योजना के लिए लाभार्थियों को आवेदन करना होगा। जोड़े को शादी के बाद 1.5 लाख रुपये का भुगतान किया जाएगा और बाकी का भुगतान तीन साल बाद किया जाएगा। यदि लाभार्थी ने इस योजना के तहत कोई गलत जानकारी दी है तो लाभ की राशि प्राधिकरण के माध्यम से वसूल की जाएगी।

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का लाभ

बिहार सरकार अंतर्जातीय विवाह अभियान के माध्यम से लाभार्थियों को जो लाभ प्रदान करेगी वह हैं –

  • बिहार सरकार ने अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना 2022 शुरू की है।
  • यह योजना राज्य में अंतर्जातीय विवाह को प्रोत्साहित करेगी और उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।
  • बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का संचालन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री एवं डॉ. अम्बेडकर फाउंडेशन के अध्यक्ष कर रहे हैं।
  • Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana के तहत अंतर्जातीय जोड़ों को 2.5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।
  • इस आर्थिक सहायता में विवाहित जोड़े को पहले 1.5 लाख रुपये दिए जाएंगे और शेष राशि का भुगतान ब्याज सहित 3 साल बाद किया जाएगा।
  • इसका लाभ उठाने के लिए पति या पत्नी में से कोई एक पिछड़ी जाति से होना चाहिए।
  • बिहार सरकार ने शुरू में दो साल के लिए बिहार अंतरजातीय विवाह योजना शुरू की थी लेकिन सरकार अब हर साल इस योजना का संचालन कर रही है।
  • Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana के माध्यम से लाभार्थी को वित्तीय सहायता की राशि NEFT या RTGS के माध्यम से बैंक खाते में भेजी जाएगी।
  • यदि लाभार्थी इस योजना का लाभ लेने के लिए कोई गलत जानकारी देता है, तो प्राधिकरण लाभार्थी से लाभ की राशि एकत्र करेगा।
  • अंतर्जातीय विवाह योजना से प्रदेशवासियों के नकारात्मक विचारों को दूर किया जा सकता है।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को 10 रुपये के गैर-न्यायिक स्टाम्प पेपर पर एक पूर्व-मुहर रसीद जमा करनी होगी, फिर आपके आवेदन का सत्यापन किया जाएगा और आपको लाभ की राशि का भुगतान किया जाएगा।

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना पात्रता मानदंड

हम आपको इस योजना के तहत बीयर सरकार द्वारा जारी पात्रता मानदंड के बारे में कुछ जानकारी प्रदान करते हैं –

  • आवेदक बिहार का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • शादी के लिए लड़की की उम्र 18 साल और लड़के की उम्र 21 साल से ज्यादा होनी चाहिए।
  • अंतर्जातीय विवाह में पति-पत्नी में से एक अनुसूचित जाति और दूसरा पिछड़ी जाति का होना चाहिए।
  • हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत विवाह सम्मानजनक और इसके तहत पंजीकृत होना चाहिए।
  • विवाहित जोड़े को विवाह का शपथ पत्र भी प्रस्तुत करना अनिवार्य है।
  • इस योजना के तहत लाभार्थी को शादी के 1 साल के भीतर आवेदन करना होता है।
  • यदि विवाह हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के अलावा किसी अन्य कानून के तहत पंजीकृत है, तो विवाहित जोड़े को एक अलग प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • लाभार्थी की पहली शादी को दिया जाएगा इस योजना का लाभ।

नोट: इस योजना का लाभ उठाने के लिए लाभार्थियों को इन सभी पात्रता मानदंडों का पालन करना होगा।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana Required Documents

इस योजना के तहत बिहार सरकार द्वारा जारी आवश्यक दस्तावेज हैं –

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • शादी का फोटो
  • शादी का कार्ड
  • विवाह प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना आवेदन प्रक्रिया

जो लाभार्थी अंतर्जातीय विवाह योजना का लाभ लेना चाहते हैं, उन्हें पहले इस योजना के तहत आवेदन करना होगा। आवेदन प्रक्रिया नीचे दी गई है –

  • सबसे पहले आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा। फिर आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जहां आपको बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना आवेदन पत्र दिखाई देगा।
  • आपको आवेदन पत्र डाउनलोड करना होगा और उसका प्रिंट आउट लेना होगा।
  • फिर आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी सही-सही भरनी है। जैसे – आपका नाम, उम्र, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, शादी की तारीख आदि।
  • सभी जानकारियों को सही-सही भरने के बाद आवेदन पत्र में उल्लिखित दस्तावेजों को आवेदन पत्र के साथ संलग्न करना होगा।
  • फिर आपको इस योजना के संबंधित विभाग में जाकर आवेदन पत्र जमा करना होगा।
  • और इस प्रक्रिया के माध्यम से आप अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

निष्कर्ष

इस पेज पर हमने आपको बिहार अंतर्जातीय विवाह उत्पादन 2022 से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है। और हम आशा करते हैं कि आपको इस पृष्ठ पर दी गई जानकारी के माध्यम से अपने सभी प्रश्नों के उत्तर मिल गए होंगे। अगर आपका अभी भी कोई सवाल है तो आप हमारे कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं, हम बहुत जल्द आपके सवाल का जवाब देंगे।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana FAQ

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना क्या है?

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana के माध्यम से अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इस योजना के तहत लाभार्थियों को 2.5 लाख रुपये का भुगतान किया जाएगा।

Antarjatiya Vivah Protsahan Scheme के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए विवाहित जोड़े में से एक अनुसूचित जाति और दूसरा पिछड़ा वर्ग का होना चाहिए।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana के तहत वित्तीय सहायता की राशि कितनी है?

अंतरजातीय विवाह योजना के तहत लाभार्थियों को 2.5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इस वित्तीय सहायता में से 1.5 लाख रुपये पहले लाभार्थियों को एनईएफटी या आरटीजीएस के माध्यम से प्रदान किए जाएंगे। शेष राशि 3 वर्ष के लिए सावधि जमा के रूप में निर्धारित की जाएगी, और 3 वर्ष के बाद विवाहित जोड़े को सावधि जमा की राशि के साथ उस पर अर्जित ब्याज का भुगतान किया जाएगा।

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन कैसे करें?

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन करने के लिए, लाभार्थी को रुपये के गैर-न्यायिक स्टाम्प पेपर पर पूर्व-मुद्रांकित रसीद जमा करनी होगी। फिर प्राधिकरण के माध्यम से आपके बैंक खाते में लाभ की राशि का भुगतान किया जाएगा।

अंतरजातीय विवाह योजना का प्रबंधन कौन कर रहा है?

Antarjatiya Vivah Protsahan का संचालन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री एवं डॉ. अम्बेडकर फाउंडेशन के अध्यक्ष द्वारा किया जा रहा है।

बिहार की अंतर्जातीय विवाह योजना कितने साल चलेगी?

अंतरजातीय विवाह योजना शुरू में बिहार सरकार ने दो साल के लिए शुरू की थी लेकिन अब इसे हर साल लागू किया जा रहा है।

बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए कौन से दस्तावेजों की आवश्यकता है?

इस योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज हैं – आधार कार्ड, राशन कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, आयु प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, शादी का फोटो, शादी का कार्ड, विवाह प्रमाण पत्र, मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटो।

Rate this post

Leave a Comment

error: Content is protected !!