उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना 2022: Online Registration, Eligibility

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की बेहतरी और नागरिकों के लाभ के लिए कई कदम उठाए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में ग्रामीण क्षेत्रों में सुधार के लिए एक नई योजना शुरू की है। सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का नाम उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना 2022 है। उत्तर प्रदेश के नागरिकों को भी सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। राज्य सरकार इस योजना के माध्यम से सरकार और नागरिकों के सहयोग से ग्रामीण बुनियादी ढांचे का विकास करेगी। उत्तर प्रदेश सरकार ने निर्देश दिया है कि Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana के औपचारिक शुभारंभ के लिए ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग को कार्य योजना प्रस्तुत की जाए।

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana apply

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस योजना की शुरुआत की है। प्राधिकरण के अनुसार इस योजना के तहत कुल खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% इच्छुक लाभार्थियों द्वारा प्रदान किया जाएगा। इस पोस्ट के माध्यम से आज हम आपको उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के बारे में सभी जानकारी प्रदान करेंगे। जैसे कि योजना का उद्देश्य, सुविधाएं, आवश्यक दस्तावेज, पात्रता मानदंड और मातृभूमि योजना आवेदन प्रक्रिया आदि। अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं और इससे जुड़ी और जानकारी जानना चाहते हैं तो हमारा सुझाव है कि आप इस पेज को पूरा पढ़ें।

संक्षिप्त योजना विवरण

योजना का नामउत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्यइस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करना है।

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana About

उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए यह योजना शुरू की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 सितंबर 2021 को इस योजना को शुरू करने की घोषणा की है। राज्य सरकार ने इस योजना के माध्यम से गांव के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए नागरिकों की प्रत्यक्ष भागीदारी की व्यवस्था की है। अधिकारियों ने कहा कि यह योजना सरकार और राज्य के नागरिकों दोनों के सहयोग से गांव के बुनियादी ढांचे का विकास करेगी। इस योजना के तहत कुल खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% इच्छुक नागरिकों द्वारा प्रदान किया जाएगा। और बदले में यह निर्णय लिया गया है कि योजना का नाम सहयोगियों की इच्छा के अनुसार रखा जाएगा। इसका साफ मतलब है कि लाभार्थी केवल आधा भुगतान करके ही योजना का पूरा लाभ उठा सकता है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने इस योजना के तहत नागरिकों के साथ संवाद करने के लिए पंचायत सहायकों को नियुक्त करने का निर्णय लिया है, और इस योजना से संबंधित जानकारी पंचायत सहायकों द्वारा प्रशासन को प्रदान की जाएगी। इसलिए उत्तर प्रदेश सरकार ने मातृभूमि योजना के अधिकारिक शुभारंभ के लिए ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज विभाग को कार्य योजना प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। और पंचायत सहायक को सरकार और दानदाताओं द्वारा 10,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा। उत्तर प्रदेश सरकार की योजनाओं पर नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए इस पृष्ठ को बुकमार्क करें।

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana Highlight Key
योजना का नामउत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना
किसने लॉन्च कियामुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ जी द्वारा
स्कीम के तहतराज्य सरकार
राज्यउत्तर प्रदेश
लाभार्थियोंउत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्यइस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करना है।
पोस्ट श्रेणीयोजना
साल2022
बजटइस योजना के तहत कुल खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% इच्छुक लाभार्थियों द्वारा प्रदान किया जाएगा।
आधिकारिक वेबसाइटआधिकारिक वेबसाइट जल्द ही उपलब्ध होगी।

मातृभूमि योजना के तहत सरकार द्वारा पंचायत सहायकों की नियुक्ति की जाएगी

योगी आदित्यनाथ जी ने 15 सितंबर 2021 को राज्य में उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना शुरू करने की घोषणा की। इसके माध्यम से सरकार और नागरिकों के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के बुनियादी ढांचे का विकास किया जाएगा। इसीलिए सरकार ने राज्य में नागरिकों से संवाद करने के लिए पंचायत सहायकों की नियुक्ति करने का फैसला किया है। राज्य सरकार ने कहा है कि यूपी मातृभूमि योजना से संबंधित जानकारी पंचायत सहायक के माध्यम से सीधे प्रशासन को उपलब्ध कराई जाएगी। पंचायत सहायकों को सरकार और दानदाताओं द्वारा प्रदान की जाने वाली राशि में से अधिकतम 10000 रुपये का भुगतान किया जाएगा। पता चला है कि यह पहली बार है जब राज्य सरकार पंचायत सहायकों की नियुक्ति कर रही है। राज्य सरकार यह योजना केवल उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों को प्रदान करेगी। और सरकार ने कहा है कि इस योजना के तहत खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना बनेगी

उत्तर प्रदेश सरकार मातृभूमि योजना के तहत राज्य में मातृभूमि सोसायटी का गठन करेगी। अधिकारियों ने कहा है कि गठन के बाद राज्य और जिला स्तर पर बैंक खाते खोले जाएंगे। और सरकार इन बैंक खातों के माध्यम से आवश्यक राशि प्रदान करेगी। साथ ही सरकार के निर्देशानुसार विकास अधिकारी को इस योजना के तहत खातों में जमा करने की तिथि से 30 दिनों के भीतर परियोजना शुरू करने की अनुमति दी जानी है। इस योजना के माध्यम से जितने भी पंचायत सहायक नियुक्त किये गये हैं, वे योजना से संबंधित समस्त जानकारी सीधे प्रशासन को देंगे। इस योजना के तहत सभी विकास रिपोर्ट जिलाधिकारी को उपलब्ध करायी जायेगी।

उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि योजना के प्रबंधन के लिए योजना के तहत एक मैनेजमेंट यूनिट स्थापित की जाएगी। इस प्रबंधन इकाई के माध्यम से इस दिन के लिए एक विशिष्ट मोबाइल ऐप बनाया जाएगा। सरकार का यह भी कहना है कि अगर आपको किसी जटिल स्थिति से निपटना है तो आप अपनी समस्या के समाधान के लिए कॉल सेंटर से संपर्क कर सकते हैं। इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों को दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से इस योजना की घोषणा की गई है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में ग्रामीण बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए 15 सितंबर 2021 को उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना शुरू करने की घोषणा की है। रेजिडेंस 5 कालिदास मार्क से वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया गया जहां योजना पर चर्चा की गई। और इस चर्चा बैठक में मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार लगातार गांव के सामाजिक विकास के लिए काम कर रही है। इन दोनों के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों का विकास सरकार और नागरिकों द्वारा किया जाएगा। कुल खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% का भुगतान इच्छुक लाभार्थियों को किया जाएगा। इसलिए सरकार संबंधित व्यक्ति की इच्छा के अनुसार परियोजना का नाम रखेगी।

उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रामीण बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए यह योजना शुरू की है। राज्य सरकार ने बातचीत के माध्यम से राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए नागरिकों को सीधे शामिल करने के लिए कदम उठाए हैं। राज्य सरकार के अनुसार, यह योजना सरकार को राज्य के हर गांव में पुस्तकालय, स्टेडियम, ओपन जिम, व्यायामशाला, पशु सुधार केंद्र और स्वास्थ्य केंद्र स्थापित करने में सक्षम बनाएगी।

यूपी मातृभूमि योजना का उद्देश्य

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के उद्देश्य की जानकारी नीचे दी गई है –

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 सितंबर, 2021 को इस योजना को शुरू करने का फैसला किया है। मातृभूमि योजना शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण बुनियादी ढांचे का विकास करना है। ग्रामीण क्षेत्रों में आधारभूत संरचना का विकास राज्य सरकार और नागरिकों के सहयोग से किया जाएगा। राज्य सरकार ने इस योजना के तहत नागरिकों को सीधे शामिल करने का निर्णय लिया है। उत्तर प्रदेश सरकार इस योजना के तहत कुल खर्च का 50% वहन करेगी, शेष 50% इच्छुक लाभार्थियों द्वारा प्रदान की जाएगी। परियोजना का नाम संबंधित व्यक्ति की इच्छा के अनुसार रखा जाएगा क्योंकि लाभार्थी लागत का 50% वहन करेगा।

इस योजना के तहत पंचायत सहायकों की नियुक्ति की जाएगी जो नागरिकों को इस योजना से जुड़ने में मदद करेंगे। सरकार इस योजना के माध्यम से नागरिकों को ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए वित्तीय सहायता के रूप में प्रोत्साहित करेगी। तथा जितने भी पंचायत सहायक नियुक्त किये जायेंगे उन्हें सरकार एवं दानदाताओं द्वारा अधिकतम 10 हजार रुपये का भुगतान किया जायेगा। माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना ग्रामीण बुनियादी ढांचे के विकास के लिए कारगर साबित होगी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के लाभ

हम आपको मातृभूमि योजना के माध्यम से लाभार्थियों को मिलने वाले लाभों के बारे में कुछ जानकारी प्रदान करते हैं –

  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 सितंबर, 2021 को योजना शुरू करने की घोषणा की है।
  • इस दिन के दौरान राज्य के गांवों में बुनियादी ढांचे को विकसित करने का निर्णय लिया गया था। और इस योजना के तहत नागरिकों की सीधी भागीदारी की व्यवस्था की गई है।
  • उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के कुल खर्च का 50% सरकार वहन करेगी और शेष 50% का भुगतान नागरिकों द्वारा किया जाएगा। और इसी कारण से संबंधित व्यक्ति की इच्छा के अनुसार परियोजना का नाम रखा जाएगा।
  • इस योजना के तहत संबंधित व्यक्ति केवल आधी राशि पर ही योजना का पूरा लाभ उठा सकता है।
  • सरकार इस योजना के माध्यम से नागरिकों को जोड़ने के लिए सरकारी पंचायतों की नियुक्ति कर रही है।
  • पंचायत सहायक मातृभूमि योजना से जुड़ी सारी जानकारी सीधे प्रशासन को देंगे।
  • पंचायत सहायकों को सरकार और दानदाताओं द्वारा प्रदान की जाने वाली राशि में से अधिकतम 10,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा। यह पहली बार है जब राज्य सरकार पंचायत सहायक की नियुक्ति कर रही है।
  • Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2022 ग्रामीण विकास के लिए प्रभावी साबित होने की उम्मीद है।
  • इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार ने एक सोसायटी बनाई है। और इस सोसाइटी के माध्यम से राज्य और जिला स्तर पर बैंक खाते खोले जाएंगे।
  • इस योजना की आवश्यक राशि बैंक खाते में उपलब्ध करा दी जाएगी। और राज्य विकास अधिकारी को आवश्यक राशि प्रदान करने के 30 दिनों के भीतर परियोजना शुरू करने की अनुमति देनी चाहिए।
  • मुख्यमंत्री ने निवास 5 कालिदास मार्ग पर वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया और उस कार्यक्रम में बताया कि प्रदेश के गांवों में सामाजिक विकास का कार्य प्रगति पर है।
  • मुख्यमंत्री मातृभूमि योजना के तहत हर गांव में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनबाड़ी, पुस्तकालय, स्टेडियम, ओपन जिम, व्यायामशाला, पशु सुधार केंद्र, सोलर लाइट, सीसीटीवी, आदि की स्थापना की जाएगी।
  • सभी लाभार्थी जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, उन्हें आवेदन करना होगा।

UP Mathrubhumi Yojana Eligibility Criteria

इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को पात्रता मानदंड का पालन करना होगा –

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का दस्तावेज

इस योजना के तहत जारी दस्तावेज हैं –

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

नोट: इस योजना के तहत आवेदन करने वाले लाभार्थियों के पास ये दस्तावेज होना आवश्यक है। यदि आवेदक के पास दस्तावेज नहीं है तो वह इस योजना के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं होगा।

यूपी मातृभूमि योजना आवेदन प्रक्रिया

राज्य के सभी लाभार्थी जो उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करें –

उत्तर प्रदेश सरकार ने हाल ही में उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की घोषणा की है। उम्मीद है कि सरकार जल्द ही इस योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया शुरू करेगी। जैसे ही हम इस योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे हम आपको इस पेज के माध्यम से सूचित करेंगे। इसलिए हम आपसे उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना पर नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए इस पृष्ठ को बुकमार्क करने का अनुरोध करते हैं, और हम नियमित रूप से इस पृष्ठ पर जाने की सलाह देते हैं।

निष्कर्ष

हमने आपको इस पेज के माध्यम से उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना 2022 से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है। और हम आशा करते हैं कि आपको इस पृष्ठ की जानकारी से अपने सभी प्रश्नों के उत्तर मिल गए होंगे। अगर आपका अभी भी कोई सवाल है तो आप हमारे कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं, हम बहुत जल्द आपके सवाल का जवाब देंगे।

इसे भी पढ़ें- यूपी महिला सामर्थ्‍य योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana FAQ

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना क्या है?

राज्य सरकार उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के माध्यम से राज्य में ग्रामीण बुनियादी ढांचे का विकास करेगी। सरकार राज्य के नागरिकों को ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है। इसके माध्यम से सरकार और नागरिकों के सहयोग से ग्रामीण बुनियादी ढांचे का विकास किया जाएगा। कुल खर्च का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% इच्छुक नागरिकों द्वारा प्रदान किया जाएगा। संबंधित व्यक्ति आधी कीमत पर योजना का पूरा क्रेडिट ले सकेगा।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की शुरुआत किसने की?

मातृभूमि योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने की है। इस योजना को 15 सितंबर 2021 से शुरू करने की घोषणा की गई है।

मुख्यमंत्री मातृभूमि योजना का खर्च कौन उठाएगा?

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के कुल व्यय का 50% सरकार द्वारा वहन किया जाएगा और शेष 50% इच्छुक नागरिकों द्वारा प्रदान किया जाएगा। इसलिए, संबंधित व्यक्ति की इच्छा के अनुसार परियोजना का नाम रखा जाएगा।

मातृभूमि योजना के तहत राज्य को क्या लाभ मिलेगा?

मातृभूमि योजना के तहत हर गांव में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनबाड़ी, पुस्तकालय, दमकल सेवा केंद्र, व्यायामशाला, जिम, पशु सुधार केंद्र, सोलर लाइट, सीसीटीवी, आदि स्थापित करने की व्यवस्था की गई है.

Leave a Comment